Motivational story: बिहार का सामान्य लड़का 25 साल की उम्र में बना करोड़पति

Motivational story: Bihar’s ordinary boy became a millionaire at the age of 25

विकास कुमार का परिचय (Introduction of Vikas Kumar)

विकास कुमार बिहार के छपरा जिले के बनसोही गाँव के रहने वाले हैं। विकास कुमार ने बीटेक किया है। आर्थिक स्थिति अच्छी ना होने के कारण शुरूआती पढ़ाई की फीस पिता ने कर्ज लेकर भरी थी। इसके बाद विकास ने अपनी पढ़ाई पूरी करने के लिये लोन लिया। विकास कुमार जी का कहना है कि एक समय में वह डिप्रेशन में भी थे जिसका एहसास उन्हें अब होता है। वह थर्ड सेमिस्टर से ही अपना खर्च निकालने के लिये अर्टिकल राइटिंग करते थे। वर्तमान में आज तक उन्होंने कभी नौकरी नहीं की है। भविष्य में भी नौकरी करने में उनकी कोई रूचि नहीं है। विकास कुमार को कोडिंग बहुत पसंद है।

ऑनलाइन काम कैसे शुरू किया? (How did he start working online?)

विकास का कहना है कि शुरूआती दौर में उन्हें ऑनलाइन इनकम पर ज़रा भी भरोसा नहीं था। एक दिन विकास कुमार के एक फेसबुक मित्र के द्वारा गूगल एडसेंस से चार 4 हजार की कमाई का स्क्रीनशॉट शेयर किया। जिसे देककर विकास कुमार इतना प्रभावित हुए कि उन्होंने खुद भी ब्लॉगिंग करने का फैसला लिया। इसी राह पर ज्योति चौहान ने विकास कुमार की मदद की उन्होंने ही सलाह दी की ब्लॉगिंग से तो नहीं लेकिन इवेंट ब्लॉगिंग से पैसा जल्दी कमाया जा सकता है। परिणाम स्वरूप विकास कुमार ने इवेंट ब्लॉगिंग पर काम करना शुरू कर दिया। एक साल तक इवेंट ब्लॉगिंग करने के बाद सकारात्मक परिणाम मिला। विकास कुमार के पास फोन, लेपटॉप नहीं था इस्लिये उन्होंने लाइब्रेरी के कम्पूटर से काम करना शुरू किया।

एक करोड़ 64 लाख की कमाई कैसे  हुई? (How did he earn one crore 64 lakhs?)

विकास कुमार ने फैसला किया कि एक वेबसाइट बना कर उस पर काम करेंगे और कुछ समय बाद उसे बेच देंगे। परिणाम स्वरूप 2017 में उन्होंने किसी फेसबुक मित्र के साथ मिल कर पार्टनरशिप में वेबसाइट बनाई। उस साइट पर तीन महीने तक लगातार कंटेन्ट अपलोड़ करते रहे। इतना ही नहीं प्रत्येक ब्लॉग को प्रतिदिन अपडेट करते थे। उनकी साइट रेंक हो गई। लगभग 12 हजार डॉलर की प्रति माह इनकम होने लगी। विकास कुमार का अपना घर बनाने का सपना था। जिसके लिये उन्होंने 2019 में अपनी साइट एक करोड़ 64 लाख में बेच दी।

वर्तमान में विकास कुमार क्या कर रहें हैं? (What is Vikas Kumar doing currently?)

विकास कुमार ने जब अपनी साइट बेंची थी तो इस शर्त (कांट्रेक्ट) पर कि दोबारा वह इस विषय पर ब्लॉगिंग नहीं कर सकते हैं लेकिन विकास कुमार व उनके पार्टनर द्वारा जो साइट बेंची गई थी वह उनके पार्टनर के नाम से थी जिसका लाभ विकास कुमार को यह हुआ कि अब वह अपने नाम से उस विषय पर ब्लॉगिंग कर रहें हैं।

स्टॉक मार्केट में भी उन्होंने पैसे लगाए हैं। डिजिटल मार्केटिंग व ऐप डेवलपमेंट में भी विकास कुमार काम कर रहें हैं। विकास कुमार किसी नए आडिया पर भी काम कर रहे हैं। जिसकी सूचना उन्होंने अभी देने से मना कर दिया अर्थात वह अपने इस आडिया को सुरक्षित रखने के लिये गुप्त रखना चाहते हैं।

ऑनलाइन काम करने के परिणाम स्वरूप विकास कुमार के जीवन में क्या बदलाव आए? (What changes happened in Vikas Kumar’s life as a result of working online?)

विकास कुमार ने 50 लाख का अपना नया घर बना लिया है। साथ ही उन्हें नौकरी करने की आवश्यकता नहीं पड़ रही है। उनका जीवन गरीबी में बीता लेकिन आज वह सुख-सुविधाओं से पूर्ण जीवन व्यतीत कर रहें हैं। इतना ही नहीं जहाँ उन्हें नौकरी करने की आवश्यकता नहीं है वही आज वह दूसरो को रोज़गार दे रहें हैं। उनके यहाँ नौकरी करने वाले लोग अपने घर से नौकरी (वर्क फ्रॉम होम) करते हैं। आमतौर पर लोगो को गाँव से शहर आना पड़ता है नौकरी करने के लिये लेकिन विकास कुमार अपने गाँव से अपना काम करते हैं। सबसे अधिक आश्चर्य कि बात यह कि विकास कुमार 25 साल की उम्र में करोड़पति बन गए।

विकास कुमार का ब्लॉगर्स के लिये मैसेज (Vikas Kumar’s message to bloggers)

विकास कुमार का कहना है कि गरीबी एक जाति है। (अर्थात गरीबी एक ऐसी जाति है जो सदेव दुखो में घिरी रहती है) ऐसे में गरीबी से निकलने के लिये एजुकेशन बहुत जरूरी है। विकास कुमार का कहना है कि किताबें हमेशा पढ़ते रहना चाहिए, साथ ही अपने स्किल पर फोकस करना चाहिये। यदि मेहनत करते रहोगे तो जब तक गूगल रहेगा तब तक आपका ब्लॉग रहेगा।

विकास कुमार के विषय में यह जानकारी कहां से प्राप्त हूई? (Where did I get this information about Vikas Kumar?)

विकास कुमार ने अपने एक इंटरव्यू अपनी जीवन की यह सारी घटनाएँ खुद बताई हैं। उनका यह इंटरव्यू यूटयूबर सतीश कुशवाहा द्वारा लिया गया है।

निष्कर्ष (Conclusion)

विकास कुमार की कहानी संघर्षो से पूर्ण है। इस कहानी से प्रेरणा ली जा सकती है। हमारे जन्म से हमें जो मिला उसमें हमारी मर्ज़ी नहीं होती। हमारे जीवन के दौरान हमें जिस चीज़ की भी कमी लगती है। उसे प्राप्त करने के लिये मेहनत करना है या नहीं उसमें हमारी इच्छा शामिल होती है। ऐसा नहीं है कि हम मेहनत करें और उसका परिणाम ना मिले। प्रत्येक सकारात्मक प्रयास का कुछ ना कुछ परिणाम आवश्य होता है। कुछ परिणाम स्पष्ट दिखाई देते है। कुछ जल में छिपे जीव की तरह होते हैं। परिणाम स्वरूप कहा जा सकता है कि सफलता प्राप्त करने के लिये हमें स्वंय ही मेहनत करनी होगी। हम अपनी किसमत या परिवार की आर्थिक स्थिति ठीक ना होने का बहाना नहीं दे सकते हैं।

Article By Sunaina

विकास कुमार का Video इंटरव्यू –

अन्य वीडियो देखे : –

Sahitya Nazm

Leave a Comment