दिवाली 2022 – रखे इन ख़ास बातों का ध्यान

दिवाली पर रखे इन ख़ास बातों का ध्यान

दिवाली के बारे में जाने कुछ रोचक बाते | Some Interesting Facts About Diwali

Image by Amol Sharma from Pixabay 

दिवाली पूरे देश में बड़ी धूमधाम से मनाई जाती है। दिवाली कार्तिक मास की अमावस्या को मनाई जाती है। इस दिन विधि-विधान से मां लक्ष्मी की पूजा की जाती है। लक्ष्मी के स्वागत के लिए आंगन और सामने के दरवाजे पर रंगोली बनाई जाती है। घर को रोशनी से सजाया गया है। इतना ही नहीं दिवाली के दिन लक्ष्मी गणेश जी की नई मूर्ति की पूजा की जाती है। लोग दिवाली की तैयारी कुछ दिन पहले ही कर लेते हैं।

अगर आप भी लक्ष्मी गणेश की मूर्ति खरीदना चाहते हैं तो धनतेरस के दिन लक्ष्मी और गणेश की मूर्ति खरीदना बहुत शुभ माना जाता है। लेकिन गणेश और लक्ष्मी माता की मूर्ति खरीदते समय कुछ बातों का विशेष ध्यान रखना चाहिए। ऐसा करने से आपकी पूजा सफल होगी और सभी मनोकामनाएं पूरी होंगी।

अब आइए जानें किस प्रकार की गणेश-लक्ष्मी जी की मूर्ति को घर में स्थापित किया जाता है।

1. ऐसा माना जाता है कि अगर आप दिवाली के लिए लक्ष्मी-गणेश जी की मूर्ति खरीदने की सोच रहे हैं, तो धनतेरस के दिन उन्हें खरीदना सबसे अच्छा होता है।

इसके अलावा इस बात का भी ध्यान रखें कि आप दोनों मूर्तियों को अलग-अलग खरीदें, न कि संयुक्त मूर्तियां।

2. कहा जाता है कि दिवाली के दिन केवल बैठी मुद्रा में गणेश-लक्ष्मी की मूर्ति की पूजा करनी चाहिए। खड़ी मुद्रा की मूर्तियों को अग्नि का नाश करने वाला माना जाता है। इसलिए पूजा के समय बैठी हुई मूर्ति का प्रयोग करें।

3. दिवाली पूजा के लिए मूर्ति खरीदते समय इस बात का ध्यान रखें कि पूजा में टूटी हुई मूर्ति रखना अशुभ माना जाता है। मूर्ति को कहीं से भी टुटा या चटका हुआ नहीं होना चाहिए। खंडित मूर्ति की पूजा करना उचित नहीं है।

4. वहीं अगर आप गणेश जी की मूर्ति खरीद रहे हैं तो ध्यान दें कि उनकी सूंड बाईं ओर मुड़ी हुई हो और उनका वाहन चूहे  को मूर्ति में ही बना होना चाहिए।

5. देवी लक्ष्मी की मूर्ति खरीदते समय इस बात का ध्यान रखें कि उनके हाथ से धन की वर्षा हो रही हो। उसके हाथ से एक-एक कर सिक्के गिर रहे हैं। देवी लक्ष्मी की ऐसी मूर्ति को धन लक्ष्मी कहा जाता है। ऐसा माना जाता है कि दिवाली पर धन और समृद्धि की देवी की पूजा करने से घर में धन और समृद्धि आती है।

6. यह भी याद रखें कि देवी लक्ष्मी को उल्लू की जगह हाथी या कमल के आसन पर बैठा होना चाहिए। इस तरह लक्ष्मी की पूजा करना लाभकारी होता है।

7. दिवाली के दिन मिट्टी की मूर्तियों की पूजा करना सबसे शुभ माना जाता है। इनके अलावा इस दिन अष्टधातु, पीतल या चांदी की मूर्तियों की भी पूजा की जा सकती है।

दीपावली पर लक्ष्मीजी की कौन सी तस्वीर की पूजा करनी चाहिए? यह सभी के मन में एक प्रश्न होगा, तो आइए जानते हैं कि दीवाली पर देवी लक्ष्मी की पूजा करने के लिए कौन सा चित्र लगाना शुभ होता है।

उल्लू पर विराजमान माता लक्ष्मी का चित्र न लगाएं। पूजा में उल्लू पर बैठी मां लक्ष्मी की तस्वीर रखने से नकारात्मकता आती है।

दीपावली पर अकेले धन की देवी लक्ष्मी का चित्र नहीं लगाना चाहिए। मान्यता के अनुसार केवल देवी लक्ष्मी के चित्र की पूजा करने से अधिक लाभ उन्हें गणेश और सरस्वती के साथ पूजा करने से होता है।

अगर आप देवी लक्ष्मी का चित्र ला रहे हैं तो देवी लक्ष्मी का वह चित्र लेकर आएं, जिसमें वह हाथियों के साथ अपनी सूंड उठाकर कमल आसन पर बैठी हैं। तस्वीर में मां लक्ष्मी जब बैठी होती हैं तो उन्हें सर्वश्रेष्ठ माना जाता है।

यदि चित्र में ऐरावत हाथी मौजूद हो तो उस व्यक्ति को बहुतायत और सुख की प्राप्ति होती है। कुछ तस्वीरें तस्वीर के केंद्र में लक्ष्मी मां को उनके दोनों ओर दो हाथियों के साथ दिखाती हैं। वे पानी में दौड़ रहे हैं और सिक्कों की बौछार कर रहे हैं। ऐसी तस्वीर की पूजा करने से घर में किसी भी स्थिति में धन की कमी नहीं होती है। ऐसे में अगर कलश लेकर हाथी भी सूंड में खड़ा हो तो यह शुभ माना जाता है.

अगर भगवान विष्णु के साथ लक्ष्मी की तस्वीर है, तो आप उनकी पूजा भी कर सकते हैं। नारायण को आमंत्रित करने से घर में देवी लक्ष्मी की स्थापना होती है। भगवान विष्णु के साथ घर में आने वाली मां लक्ष्मी गरुड़ वाहन पर आती हैं, जो शुभ होती है।

दीपावली देवी लक्ष्मी का सबसे पसंदीदा त्योहार है। लक्ष्मी का आशीर्वाद मांगने के लिए यह एक अच्छा दिन है, इस भौतिक युग में सुखी, समृद्ध और ऐश्वर्यवान होने के लिए, आप माँ लक्ष्मी के आशीर्वाद के बिना नहीं कर सकते।

— By Gaurav Joshi

Leave a Comment